New India News
अर्थजगतदेश-विदेशनवा छत्तीसगढ़

उत्तरप्रदेश से आए उप संचालक कृषि विभाग के जयप्रकाश ने किया गोधन न्याय योजना व मिलेट की सराहना

Newindainews/CG कांकेर जिले के किसानों को लघु धान्य फसले कोदो,कुटकी, रागी की खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है। उत्तरप्रदेश के जिला जौनपुर से आए उप संचालक कृषि विभाग जयप्रकाश सिंह ने कांकेर जिले में संचालित गोधन न्याय योजना और मिलेट मिशन योजना का जायजा लिया। उन्होंने निरीक्षण के दौरान छत्तीसगढ़ सरकार की गोधन न्याय योजना व मिलेट मिशन योजना की सराहना की विषाक्तता पर्यावरण को हो रहे नुकसान और ग्लोबल वार्मिंग जैसे कई समस्या को काफी हद तक कम कर सकते हैं। धान के बदले अन्य लाभकारी फसल के रूप में कांकेर जिले के किसानों द्वारा लघु धान्य फसल जैसे कोदो-कुटकी- रागी की खेती भी काबिले तारीफ है। यहां मिलेट मिशन की प्रोसेसिंग यूनिट भी स्थापना की गई है, जिससे कांकेर जिले के किसानों सहित प्रदेश के किसानों को भी इसका लाभ मिलेगा, यह बात जिले के भानुप्रतापपुरविकासखंड के ग्राम चिल्हाटी में आदर्श गोठान और महिला स्व सहायता समूह द्वारा संचालित आय मूलक गतिविधियों के मुआयना के दौरान कही। निरीक्षण के दौरान उप संचालक कृषि एनके नागेश, सहायक संचालक कृषि जितेंद्र कोमरा, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी संजय मंडावी, पशु चिकित्सा अधिकारी टीकम ठाकुर, ग्रामसरपंच प्रतिभा सलाम, गोठान समिति अध्यक्ष महेश सलाम, सहित महिला समूह  के सदस्य उपस्थित थे। जिले के भानुप्रतापपुर विकासखंड के माडल गोठान चिल्हाटी के भ्रमण के दौरान गोठान के नोडल अधिकारी टीएस ध्रुव ने उत्तरप्रदेश के उप संचालक जयप्रकाश सिंह को गोठान में संचालित विभिन्न मल्टीएक्टिविटी गतिविधियों की जानकरी दी। इस दौरान उप संचालक सिंह ने कहा कि गोधन न्याय योजना के माध्यम से ग्रामीणों की भागीदारी पशुधन और गोठान में विभिन्न आजीविका मूलक उत्तरप्रदेश के जिला जानपुर से आए उप संचालक कृषि जयप्रकाश सिंह जिले में संचालित गोधन न्याय योजना और मिलेट मिशन योजना का जायजा लेते हुए। गतिविधि जैसे जैविक वर्मी खाद उत्पादन, मुर्गी पालन, बतख पालन सुकर पालन, मछली पालन, सब्जी उत्पादन सहित विभिन्न प्रकार के आजीविका को बेहतर बनाने का काम किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ सरकार की यह योजना देश में अलग पहचान बना चुका है। उप संचालक कृषि जयप्रकाश सिंह ने कहा कि इस योजना से हम न सिर्फ खेती किसानी और आजीविका का बेहतर समाधान प्राप्त कर सकते हैं, बल्कि इसके जरिए रासायनिक खाद और कीटनाशक का खेती में अंधाधुध तरीके से हो रहे उपयोग से भूमि की घटती उर्वरकता शक्ति खाद्यान्न पदार्थों

Related posts

4 नवजात बच्चों की मौत के मामले में प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने अधिकारियों के साथ निरीक्षण किया

newindianews

राजीव भवन में पं. रविशंकर एवं शहीद पं. विद्याचरण शुक्ल जयंती मनायी गयी

newindianews

“हमर छत्तीसगढ़” आसिफ इक़बाल की कलम से…

newindianews

Leave a Comment