New India News
Otherदेश-विदेशराजनीति

अनुसूचित जातियों तथा अनुसूचित जनजातियों के कल्याण संबंधी संसदीय समिति ने सीआईएल और एसईसीएल के कर्मचारी संघों और प्रबंधन के साथ की बैठक

दोनों वर्गों के हितों तथा कल्याण के लिए किए जा रहे कार्यों की जानकारी ली

 

अनुसूचित जातियों तथा अनुसूचित जनजातियोंअनुसूचित जातियों तथा अनुसूचित जनजातियों

Newindinaews/Raipur छत्तीसगढ़ के अध्ययन दौरे पर आए अनुसूचित जातियों तथा अनुसूचित जनजातियों के कल्याण संबंधी संसदीय समिति ने आज नवा रायपुर में कोल इंडिया लिमिटेड (CIL) और एसईसीएल (South Eastern Coal Fields Limited) के अनुसूचित जाति-जनजाति के कर्मचारी संघों और दोनों कंपनियों के प्रबंधन के साथ बैठक की। सांसद डॉ. (प्रोफेसर) किरीट प्रेमजीभाई सोलंकी की अध्यक्षता में संसदीय समिति के सदस्यों ने बैठक में दोनों कंपनियों में अनुसूचित जातियों तथा अनुसूचित जनजातियों के प्रतिनिधित्व एवं उनके लिए किए जा रहे कल्याणकारी उपायों पर चर्चा की। संसदीय समिति के सदस्य श्री जगन्नाथ सरकार, श्री नीरज डांगी, डॉ. व्ही. शिवदासन और श्री कामाख्या प्रसाद तासा भी चर्चा में शामिल हुए।

अनुसूचित जातियों तथा अनुसूचित जनजातियों

कोल इंडिया लिमिटेड और एसईसीएल के कर्मचारी संघों ने दोनों वर्गों के हितों एवं अधिकारों के संबंध में अपनी बातें रखी तथा संवैधानिक व न्यायिक अधिकारों के लिए आवश्यक पहल करने की अपेक्षा की। संसदीय समिति ने कोल इंडिया लिमिटेड और एसईसीएल प्रबंधन से दोनों कंपनियों में काम की स्थिति, ठेकेदारी में काम करने वालों की भुगतान की स्थिति, अनुकंपा नियुक्ति, पदोन्नति में आरक्षण और रिक्त पदों में भर्ती की स्थिति की जानकारी ली। समिति ने कर्मचारी संघों द्वारा प्रबंधन के समक्ष रखी गई मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करने कहा।

संसदीय समिति के साथ बैठक में कोल इंडिया लिमिटेड के चेयरमैन श्री प्रमोद अग्रवाल, एसईसीएल के सीएमडी डॉ. पी.एस. मिश्रा और कोयला मंत्रालय के आर्थिक सलाहकार श्री एच.के. हाजोंग, सिस्टा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं महासचिव श्री आर.पी. खांडे तथा कंपनी काउंसिल के अध्यक्ष श्री ओ.पी. नवरंग सहित दोनों यूनियनों के पदाधिकारी एवं दोनों कंपनियों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Related posts

“हमर छत्तीसगढ़” आसिफ इक़बाल की कलम से…

newindianews

युवा राष्ट्र निर्माण में भागीदार बने और अपने देश पर गर्व करें- राज्यपाल हरिचंदन

newindianews

मनरेगा से बने कुएं ने दिखाई कर्ज मुक्ति की राह,  ईंट निर्माण से तीन सालों में साढ़े तीन लाख की कमाई

newindianews

Leave a Comment