New India News
Otherखेलदेश-विदेश

“हमर छत्तीसगढ़” आसिफ़ इक़बाल की कलम से अंक 54

छत्तीसगढ़ में खेल अकादमियों का संचालन उद्योगों के ‘सीएसआर फंड’ से होगा…

हमर छत्तीसगढ़ राज्य के खेलों  के विकास, बेहतर अधोसंरचना बनाने, खिलाड़ियों को ज़रूरी सुविधाएं देने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली राज्य सरकार ने खेल अकादमियों का संचालन उद्योगों के ‘सीएसआर फंड’ से कराने का निर्णय लिया है। इसके लिए अन्तराष्ट्रीय स्तर के मानकों से खेल अकादमियों को तैयार एवं संचालन किया जावेगा। इसे सुनिश्चित करने के लिए खेल एवं युवा कल्याण विभाग की अपर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में उद्योग प्रतिनिधियों की बैठक शीघ्र ही आयोजित की जाएगी। गौरतलब है कि इसके लिए खेल विकास प्राधिकरण की गवर्निंग बॉडी ने निर्देश दिए हैं। जानकारी के मुताबिक, (1) नारायणपुर जिले में आवासीय मलखम्ब अकादमी – भिलाई इस्पात संयंत्र, (2) आवासीय शूटिंग रेंज व शूटिंग अकादमी – जिला स्टील एवं पावर लिमिटेड, (3) हॉकी, एथलेटिक्स व तीरंदाजी के एक्सीलेंस सेंटर बहरतराई बिलासपुर जिले में, (4) आवासीय तीरंदाजी अकादमी रायपुर जिला – एनएमडीसी लिमिटेड को चिन्हित किया गया है। (5) गैर – आवासीय एथेलेटिक्स अकादमी रायपुर जिला – बजरंग पावर एंड स्टील, (6) आवासीय हॉकी अकादमी – अल्ट्राटेक सीमेंट कंपनी, (7) आवासीय वॉलीबॉल स्वीकिंग, बास्केटबॉल, फुटबॉल अकादमी – बालको के साथ साथ एनटीपीसी लिमिटेड कोरबा, (8) आवासीय बालिका कबड्डी अकादमी – गोपाल स्पंज एंड पावर प्रा.लि. के साथ मिल इस्पात प्रा.लि. तखतपुर, (9) राज्य खेल प्रशासनिक बहरतराई बिलासपुर में अधोसंरचनाओं का विकास करने के लिए एसईसीएल बिलासपुर को जम्मेदारी दी गई है। यूनिक 24 सी.जी. वेब पोर्टल के अनुसार, सीएसआर मद से खेल अकादमियों को विकसित करने खेल विकास प्राधिकरण की बैठक 15 जून 2022 को हुई थी, जिसमें उद्योगों को चिन्हित किया गया है।

छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक न्यायालय के अध्यक्ष बने श्रम विभाग के रिटायर प्रमुख सचिव रविशंकर शर्मा…

छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक न्यायालय के अध्यक्ष के पद पर श्रम विभाग के रिटायर प्रमुख सचिव रविशंकर शर्मा को नियुक्त किया गया है। उनका कार्यकाल उनकी 65 वर्ष की आयु तक होगा। राज्य सरकार के श्रम विभाग के उप सचिव आशुतोष पाण्डेय ने 30 नवंबर 2022 को उक्ताशय का आदेश जारी किया है।

 

नई ट्रैन की सौगात : बिलासपुर से नागपुर के बीच चलेंगी वंदेभारत ट्रैन…

हमर छत्तीसगढ़ राज्य की न्यायधानी बिलासपुर जोन के अंतर्गत बिलासपुर से नागपुर के बीच अत्याधुनिक नई ट्रैन वंदेभारत का परिचालन शुरू हो रहा है।  वंदेभारत ट्रैन का तीन स्टेशनों पर स्टॉपेज होगा। गौरतलब है कि इसी माह 11 दिसंबर 2022 से बिलासपुर से चलकर नागपुर जाने वाली वंदेभारत ट्रैन का रायपुर, दुर्ग और गोंदिया में तीन स्टॉपेज होगा। ये वंदेभारत ट्रैन कुल 412 किलोमीटर की दूरी सिर्फ 5.30 घंटे में पूरा करेगी। वंदेभारत ट्रैन सप्ताह में 6 दिन चलाई जाएगी। रेल यात्रियों के लिए इस ख़ुशी के लिए वंदेभारत ट्रैन को रेलवे बोर्ड से मंजूरी भी मिल गई है। यह ट्रैन सिर्फ शनिवार को नहीं चलेगी। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागपुर स्टेशन से वंदेभारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाई।

 

छत्तीसगढ़ रोजगार देने में अव्वल…
हमर छत्तीसगढ़ राज्य रोज़गार देने में पूरे देश में अव्वल है। इसका प्रमाण है, बीते नवंबर 2022 में बेरोजगारी दर मात्र 0.1 प्रतिशत रही, जबकि देश में 8.2 प्रतिशत रहा बेरोजगारी का आंकड़ा। अर्थात यह साफ़ है कि हमर छत्तीसगढ़ राज्य पूरे देश में न्यूनतम बेरोजगारी दर वाला राज्य बन गया है। हमर छत्तीसगढ़ को मिली इस उपलब्धि के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा रोजगार के लिए नये अवसरों के सृजन के लिए अपनाई जा रही योजनाएं और नीतियां रही हैं। हमर छत्तीसगढ़ में बीते पौने चार साल के दौरान ऐसे सृजन हुए हैं जिससे शहर से लेकर गांव तक हर हाथ को काम मिल रहा है। यहां गौरतलब है कि सी एम आई ई के मई -अगस्त 2018 में जारी किये गए आंकड़े ज़ाहिर करते हैं कि छत्तीसगढ़ में बेरोजगारी दर 3.22 प्रतिशत रही। इसमें सरकार की योजनाओं से इसमें उल्लेखनीय गिरावट दर्ज़ की गई है। बेरोजगारी की दर छत्तीसगढ़ में माह दिसंबर 2022 में घटकर 0.1 प्रतिशत रह गई है। इसका अर्थ यह है कि हमर छत्तीसगढ़ में 99.90 प्रतिशत लोग किसी न किसी रोजगार से जुड़कर अपना जीवन यापन कर रहे हैं। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी द्वारा जारी ताजा आंकड़ों से यह साबित हुआ है। यह बता दें कि मध्यप्रदेश में यह आंकड़ा 6.2 प्रतिशत और गुजरात में 2.5 प्रतिशत है।
दिल्ली जैसा हत्याकांड : बैंक कर्मी युवती को ओडिसा ले जाकर जंगल में हत्या कर शव को जलाया…
दिल्ली में श्रद्धा मर्डर केस की नृशंस कहानी लोगों की जुबां पर आक्रोश के साथ बनी हुई है। लगभग उसी तर्ज पर रायपुर राजधानी के मोवा स्थित निजी बैंक में कार्यरत युवती की पड़ौसी राज्य ओडिसा में जघन्य हत्या का मामला सामने आया है। बताते हैं युवती की हत्या के बाद उसकी पहचान छिपाने के लिए जंगल में उसकी लाश को जलाया भी गया। बताते हैं युवती के दोस्त सचिन अग्रवाल परिजनों को गुमराह करता रहा। यहां बता दें कोरबा निवासी मृतका का ओडिसा के बलांगीर जिले के तुरईकेला के जंगल में अधजला शव मिला है और सचिन अग्रवाल फरार हो गया है। राजधानी पुलिस फरार सचिन अग्रवाल की तलाश में जुटी है।
स्टैंड बॉल का खेल बिलासपुर से भिलाई होकर पंहुचा राष्ट्रीय टूर्नामेंट मथुरा (उ.प्र.) तक..
अरपा नदी के किनारे बसे न्यायधानी बिलासपुर में जन्में एक नये मौलिक खेल ‘स्टैंड बॉल’ की उड़ान अब हमर छत्तीसगढ़ राज्य की इस्पात नगरी अब भिलाई में प्रदेश के गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू के मुख्य आतिथ्य में पहला शानदार आयोजन हुआ। इस पहले राज्य स्तरीय स्टैंड बॉल टूर्नामेंट के बाद अलविदा होते वर्ष 2022 के अंतिम सप्ताह में उत्तर प्रदेश की कृष्ण जन्मभूमि मथुरा में प्रथम राष्ट्रीय स्टैंड बॉल टूर्नामेंट (नेशनल स्तरीय) का आयोजन होने जा रहा है। गौरतलब है कि स्टैंड बॉल के रचियता पूर्व खेल अधिकारी रहे स्वर्गीय हिदायत अली रहे हैं, जिनके जीते-जी स्टैंड बॉल खेल का प्रथम प्रदर्शन मैच बिलासपुर के सेंट बर्जेस स्कूल के ग्राउंड पर तत्कालीन मेयर मधु पिल्लै जी की उपस्तिथि में 8 अगस्त 2008 को हुआ था। उस 2008 के प्रदर्शन मैच का गवाह इन पंक्तियों के लेखक व पत्रकार (आसिफ़ इक़बाल) भी रहे थे। उस समय हिदायत अली साहेब की आँखों में चमक को मैंने ऑब्जर्व किया था जिसमें आने वाले भविष्य में स्टैंड बॉल के विस्तार की सुनहरी तस्वीर उभर रही थी। मुझे यह कहने में कतई संकोच नहीं है कि स्व. हिदायत अली साहेब की आंखों में उस वक़्त उभरी तस्वीर को आज मैं हकीकत में बदलते देख रहा हूँ। स्टैंडबॉल का खेल बिलासपुर की धरती से जन्म लेकर कृष्ण जन्मभूमि मथुरा की पावन धरती पर अपने सुनहरे प्रदर्शन की तैयारी में है। मथुरा में स्टैंडबाल के नेशनल टूर्नामेंट कराने का पहला श्रेय निःसंदेह स्टैंड बॉल के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व खिलाड़ी रहे अरविंद कुमार चित्तौड़िया को जाता है, जिन्होंने हिदायत अली साहेब के ख़्वाब को ज़मीनी तौर पर मथुरा के मैदान पर उतारने का काम कर रहे हैं। इस आयोजन में स्टैंडबाल के महासचिव जावेद अली, कोषाध्यक्ष डॉ.अरम शाज़िया तथा छत्तीसगढ़ स्टैंडबाल एसो. के महासचिव बी.डी.निजामी (पत्रकार) के अहम योगदान व लगन को बिस्मृत नहीं किया जा सकता।
देश के नामचीन शायर जनाब नूर कोहली फरमाते हैं,,
“राहे दुनिया में ना कर ठोकरें खाने से गुरेज़,,,
ठोकरें खाने से इन्सान संभल जाता है

 

 

Related posts

इस गांव के गरीब किसानो को मिली राहत मंत्री मोहम्मद अकबर ने जिला सहकारी बैंक दी स्वीकृत

newindianews

जाति प्रमाणपत्र सामान्य सभा की उद्घोषणा के आधार पर राज्य शासन द्वारा जारी दिशा – निर्देशों के अनुरूप नियमानुसार उपलब्ध प्रावधान की जानकारी दी जायेगी

newindianews

मुख्यमंत्री ने ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री श्री हेमानंद बिस्वाल के निधन पर गहरा दुःख प्रकट किया

newindianews

Leave a Comment