New India News
Otherदेश-विदेश

“हमर छत्तीसगढ़” आसिफ इक़बाल की कलम से… अंक 25


नेशनल लोक अदालत में सुलह-आपसी समझौते से डेढ़ लाख मामले सुलझे,,,,,,

राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली(नालसा)के निर्देशानुसार वर्ष 2022 का नेशनल लोक अदालत का आयोजन कोरबा में मुख्य संरक्षक महोदय, छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण एवं माननीय कार्यपालक अध्यक्ष महोदय,छत्तीसगढ़ राज्य विधिक प्राधिकरण,बिलासपुर के मार्गदर्शन में राज्य के तालुका स्तर से लेकर हाईकोर्ट स्तर तक की सभी अदालतों में बीते दिनों नेशनल लोक अदालत का आयोजन कर राजीनामा योग्य प्रकरणों में पक्षकारों और सुलह-समझौता से डेढ़ लाख से अधिक मामले सुलझाए गए।इन मामलों के अतिरिक्त स्पेशल सीटिंग के माध्यम से पेटी ऑफेंस के मामलों को भी निराकृत किया गया।नेशनल लोक अदालत में आपसी सुलह-समझौते के माध्यम से विभिन्न अदालतों में जहां डेढ़ लाख से अधिक प्रकरण सुलझाए जाने की संभावना बताई गई।इसी तरह आयोजित नेशनल लोक अदालत में छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के अंतर्गत कुल तीन खंडपीठों द्वारा 45 प्रकरणों का निपटारा करते हुए कुल 487,0000 रुपए का अवार्ड भी पारित किया गया।गौरतलब है कि नेशनल लोक अदालत का निरीकक्षण छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यपालक अध्य्क्ष जस्टिस गौतम भादुड़ी तथा ज़िला न्यायालय बिलासपुए के पोर्टफोलियो जज जस्टिस पी सैम कोसी द्वारा किया गया।न्यायाधीशों द्वारा खंडपीठ में उपस्थित सभी पक्षकारों से चर्चा कर उन्हें समझाइश दी गई।साथ ही खंडपीठ के न्यायिक अधिकारियों,सदस्यों तथा अधिवक्ताओं से भी चर्चा की गई।अतिरिक्त मोटर दुर्घटना दावा प्राधिकरण,बिकासपुर के न्यायालय में दुर्घटना प्रकरण में आवेदिका फूलबाई को 10 लाख 20 हज़ार का अवार्ड दिया गया।इसके साथ ही कईं लंबित प्रकरण भी निपटाए गए।जस्टिस गौतम भादुड़ी ने इस अवसर पर कहा कि न्यायालयों में मामले सालों दर साल चलते रहते है,जिसमें धन व समय की बर्बादी होती है जबकि लोक अदालत में में मामलों का त्वरित गति से निराकरण हो जाता है।जस्टिस कोसी ने कहा कि प्रकरण सुलझने से दोनों पक्षकारों को लाभ मिलता है।

कोरबा ज़िले में सरकार तुंहर द्वार शिविर में 11 हज़ार ग्रामीणों को मिला लाभ,,,,,,,

कोरबा ज़िले में सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम की सफलता का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि विकासखण्ड पाली के ग्राम पंचायत माखनपुर में आयोजित कार्यक्रम में 25 ग्राम पंचायतों से 11 हज़ार ग्रामीण लाभान्वित हुए हैं,जिन्हें राशन कार्ड,फौती,नामांतरण,किसान किताब,आय,जाति प्रमाण पत्र,पेंशन व दिव्यांगता प्रमाणपत्र,वनाधिकार पट्टा, जॉब कार्ड आदि सभी प्रमाणपत्र शिविर स्थल में ही प्रदान किया गया है।ज़िला कलेक्टर श्रीमती रानू साहू का कहना है कि सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम से 15 दिन पहले गांव-गांव में सर्वे कर ग्रामीणों से समस्याओं से सम्बन्धित आवेदन लिए गए थे और उनके निराकरण के बाद शिविर में ही ग्रामीणों को प्रमाणपत्र प्रदान किए गए हैं।इस शिविर में विधायक मोहितराम केरकेट्टा के साथ कलेक्टर श्रीमती रानू साहू भी शामिल हुए।कलेक्टर श्रीमती रानू साहू ने यह भी कहा कि सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम के माध्यम से शासन की सेवाओं का लाभ अधिकतम ग्रामीणों को मिले,यही इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य है।पाली-तानाखार के विधायक मोहितराम केरकेट्टा ने भी ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कहा कि भूपेश-सरकार की मंशा के अनुरूप सरकार तुंहर द्वार कार्यक्रम में शिविर के ज़रिए समस्याओं का निराकरण कर उसका लाभ आम ग्रामीणों प्रदान किया गया है।सभी अधिकारी-कर्मचारीगण,पूरी ततपरता से आम ग्रामीणों को शासन की सेवाओं का लाभ पूरे मनोयोग से पहुंचाए।सरस्वती सायकल योजना के अंतर्गत कलेक्टर श्रीमती रानू साहू ने स्कूली छात्रों को सायकल वितरित की।इसके साथ ही महिला समूहों को ऋण का चेक,किसानों को कृषि उपकरण व मछलीजाल भी वितरित किए।कार्यक्रम में ज़िला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती शिवकला कंवर,गौ सेवा आयोग के सदस्य प्रशांत मिश्रा,श्रम कल्याण सदस्य नवीन सिंह,ज़िला पंचायत के सीईओ नूतन कंवर,पाली की एसडीएम श्रीमती ममता यादव सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण,अधिकारी व कर्मचारीगण भी उपस्थित रहे।

गोधन न्याय योजना का विस्तार अब जेल तक,कैदी वर्मी कंपोस्ट बनाकर तैयार कर रहे पोषण वाटिका,,,,

हमर छत्तीसगढ़ के महासमुंद ज़िले की जेल तक भूपेश-सरकार की गोधन न्याय योजना और सुराजी गांव योजना का लाभ कैदियों तक पँहुच गया है और कैदी वर्मी कंपोस्ट तैयार कर रहे हैं।वास्तव में,महासमुंद ज़िले में बारनवापारा अंचल से लेकर जेल तक विस्तार हो गया है।गौरतलब है कि इन कैदियों ने पहली खेप में 7 किंवटल वर्मी कंपोस्ट तैयार किया है और कुछ ही दिनों में 25 किंवटल वर्मी कंपोस्ट तैयार हो जावेगा।जिसे जेल प्रशासन खरीदकर बाड़ी विकास के तहत तैयार की जा रही पोषण वाटिकाओ में उपयोग किया जावेगा।इस उपक्रम से कैदियों की ऊर्जा सकारात्मक दिशा में लगाकर उनकी मनःस्थिति व व्यवहार में सुधार लाया जा सकेगा।जेल के भीतर कैदियों को स्व-रोज़गार से जोड़ने के लिए वर्मी कंपोस्ट निर्माण,मशरूम उत्पादन और अन्य रोज़गारमूलक गतिविधियों शुरू की गईं हैं।इसके पहले चरण में 40-40 चयनित कैदियों द्वारा परिसर में बने टैंक में वर्मी कंपोस्ट निर्माण किया गया है।साथ ही पोषण वाटिका में साग-सब्ज़ी के रोपण की तैयारी की जा रही है।कैदियों को वर्मी कंपोस्ट निर्माण का प्रशिक्षण नगरपालिका परिषद और पोषण बाड़ी का प्रशिक्षण उद्यानिकी विभाग के अधिकारयों द्वारा दिया जा रहा है।इसके अलावा क्रेडा विभाग द्वारा 6 लाख 30 हज़ार की लागत से बायो गैस लगाने की तैयारी की जा रही है।जिसका उपयोग भोजन बनाने के लिए किया जावेगा।जनपत्र के संपादक गिरीश मुक्तिबोध के मुताबिक,सहायक जेल अधीक्षक अभिषेक मिश्रा ने बताया कि गोधन न्याय योजना की गतिविधियां जेल में शुरू की गई है,जिसके सकारात्मक परिणाम मिलने लगे हैं।मनोचिकित्सक डॉ राकेश प्रेमी का कहना है कि कैदियों को ऐसे कार्यो व प्रशिक्षण से कैदियों में सकारात्मक सुधार आता है और उन्हें अच्छा इंसान बनने में मदद मिलती है।

नशे के दो सौदागर सपड़ाए 29 लाख के 480 किलो गांजा के साथ,पुलिस की जंगी कार्रवाई,,,,,,

नशे के सौदागर गांजा तस्करी से बाज़ नहीं आ रहे।ओडिसा व मध्यप्रदेश से गांजा तस्करी पर भी अंकुश नहीं लग पा रहा है।जबकि पुलिस व नारकोटिक सेल की बड़ी व जंगी कार्रवाईयां भीं तस्करों के खिलाफ हो रही हैं।एम पी नारकोटिक सेल से मिले इनपुट के आधार पर राजधानी पुलिस ने उरला थाना क्षेत्र में ट्रक को रोककर जांच की गई तब उसमें से 480 किलो गांजा की बड़ी बरामदगी हुई और दो तस्करों को गिरफ्तार किया गया,जो ओडिसा के निवासी हैं।सूचना मिलने पर रिंग रोड नम्बर-3 पर ट्रक को रोककर पतासाजी की गई,तब तस्करी का खुलासा हो पाया।ज़ब्त 480 किलो गांजा की कीमत 29 लाख रुपए आंकी गई है। तस्करों से पूछताछ से मिले क्लू के आधार पर आगे की जांच करने राजधानी पुलिस व एमपी नारकोटिक सेल की टीम ओडिसा रवाना हुई है।

कारोबारी से बाइक सवार 9 लुटेरों ने 50 लाख की लूट को दिया अंजाम,,,,,

हमर छत्तीसगढ़ की राजधानी के समीप माना इलाके में कारोबारी से 3 बाइक्स पर सवार 9 लुटेरों द्वारा 50 लाख की लूट जैसी सनसनीखेज़ वारदात से राजधानी में आपराधिक नक्शे में गैंग-लूट का नया अध्याय खोलकर राजधानी पुलिस को चैलेंज कर दिया है।लूट के शिकार घायल कारोबारी को अस्पताल दाखिल किया गया है।लंबे अरसे बाद 50 लाख की गैंग-लूट की घटना ने राजधानी के अपराधगढ़ बनने का संकेत दे दिया है।माना पुलिस थाने के अंतर्गत मामला महज़ गैंग-लूट के साथ गम्भीर खूनी वारदात का रूप ले रही है।इस घटना से लगता है,डूमरतराई होलसेल मार्केट व कारोबारियों की जमकर रेकी की गई है और वारदात को अमलीजामा पहनाने शातिर लुटेरों ने देवपुरी पेट्रोल पम्प के समीप एक्टिवा सवार कारोबारी को पहले रोका और 50 लाख लूटने की कोशिश की और कारोबारी पर रॉड से हमला भी किया।जिससे कारोबारी लहूलुहान घायल होकर गिर पड़ा,तब गैंग लूट में सफल होकर फरार हो गए और पुलिस के लिए खाली स्थान छोड़ गए।पुलिस इस बड़ी लूट और लूट-गैंग की मुस्तैदी से जांच व पतासाजी में जुट गई है और जल्द ही गैंग के जकड़ में आने की उम्मीद की जा रही है।

एकल जैन बुजुर्ग दम्पत्तियों के लिए होगी भोजन व्यवस्था,,,,,,

भगवान महावीर जन्म कल्याणक महोत्सव समिति के अध्यक्ष महेंद्र कोचर व मुख्य सलाहकार विजय चोपड़ा ने अभूतपूर्व निर्णय लेते हुए जैन संवेदना ट्रस्ट जैन समाज के एकल जैन सधार्मिक बुजुर्ग दम्पत्तियों के लिए दोनों समय का सात्विक आहार उपलब्ध कराने की योजना शुरू करेगा।इन्होंने बताया कि जीवन के अंतिम पड़ाव में अनेक बुजुर्ग दम्पत्तियाँ अकेले पड़ जाते हैं।कोरोना काल की तीनों लहरों के संक्रमण काल के दौरान ऐसी परिस्थितियां ज़्यादा पैदा हुईं हैं।जैन संवेदना ट्रस्ट सबसे पहले ऐसे दम्पत्तियों का सर्वे करेगा,जिन बुजुर्गों के घर में भोजन बनाने की व्यवस्था नहीं है।उन्हें चयनित कर सूचीबद्ध किया जावेगा।यह महसूस किया गया है कि कईं दम्पत्तियाँ के बच्चे उनके पास से दूर रहते हैं।उन्हें विषम परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है और जैसे-तैसे उन्हें जीवनयापन करना पड़ता है।जैन संवेदना ट्रस्ट के प्रकाश सुराणा, गजराज पगारिया,विनोद जैन,सुपारस गोलछा,सीए प्रकाश गोलछा,चंद्रेश शाह,संतोष बैद के मार्गदर्शन में प्रारम्भ किया जा रहा है।बताया जा रहा है कि प्रतिदिन बुजुर्गों की रुचि का भोजन डॉक्टरों की सलाह पर उपलब्ध कराया जावेगा।इससे उन्हें भरपूर पोषण आहार मिल पाएगा।इस योजना से संदर्भित नियमावली भी बनाई जा रही है।फिलहाल यह योजना सम्मानपूर्वक निःशुल्क होगी।इस योजना से जुड़ने के वास्ते महेंद्र कोचर,विजय चोपड़ा, कमल भंसाली,मनोज कोठारी,गुलाब दसानी,हरीश डागा,महावीर कोचर से सम्पर्क किया जा सकता है।

देश के मशहूर शायर नज़मी सिकन्दराबादी ने फरमाया है,,,

“सुनते हैं के जुड़ जाते हैं टूटे हुए दिल भी,,,

ये काम तो मुश्किल है मगर करके तो देखो”,,,,

 

 

Related posts

कांग्रेस आदिवासियों के 32 प्रतिशत आरक्षण की पक्षधर – मोहन मरकाम

newindianews

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उप मुख्यमंत्री टी.एस. सिंहदेव को पुष्पगुच्छ भेंट किया

newindianews

टी एस सिंह देव स्वास्थ मंत्री साइकल रैली में शामिल

newindianews

Leave a Comment