New India News
Otherनवा छत्तीसगढ़राजनीति

“हमर छत्तीसगढ़” आसिफ इक़बाल की कलम से अंक 62

छत्तीसगढ़ में अब खेती फायदे का सौदा , किसानों को धान का करीब 22 करोड़ का भुगतान मिला,,,

हमर छत्तीसगढ़ के मुख्य मंत्री भूपेश बघेल ने अपने बीते लगभग चार वर्षों में खेती को लाभकारी अर्थात फायदे का सौदा बना दिया है।छत्तीसगढ़ की सरकार ने समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का अतूलनीय रिकॉर्ड स्थापित कर दिखाया है।इस वर्ष 31 जनवरी तक 107 मीट्रिक धान खरीदी का लक्ष्य निर्धारित किया गया था और इस लक्ष्य की तुलना में 23.5 लाख किसानों से रिकार्ड एक करोड़ 07 लाख 53 हज़ार मीट्रिक धान की खरीदी की जा चुकी है।धान खरीदी के लिए भूपेश सरकार ने किसानों को 21,953 करोड़ का भुगतान भी कर दिया है।मुख्य मंत्री भूपेश बघेल ने खेती को फायदे का सौदा बनाने के साथ खेती का रकबा बढ़ा दिया,वहीं किसान भी बढ़े हैं क्योंकि छत्तीसगढ़ में वर्ध 2018 में किसानों का कर्ज माफ किया गया था।इसी के समानांतर भूपेश सरकार ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत किसानों को धान की उपज का पूरे देश में सबसे अधिक मूल्य दिया है।जिसका सीधा सुखद परिणाम सामने है,रिकार्ड पैदावार और अतुलनीय धान खरीदी।इससे हमर छत्तीसगढ़ में खुशहाली का सिलसिला निरंतर चल रहा है।

बस्तर के पखांजुर में अकल्पनीय नीली-क्रांति से 500 करोड़ का टर्न ओवर,,,,,,,,

हमर छत्तीसगढ़ में बस्तर के नक्सल प्रभावित इलाके में परिवर्तन की तस्वीर दिखने लगी है।इसका ब्लू-प्रिंट(रेखाचित्र)भी उभरने लगा है।बस्तर की वादियों में कांकेर ज़िले के कोयलीबेड़ा विकासखंड के पखांजुर के किसानों ने मछली पालन(नीली-क्रांति) में अकल्पनीय व बेजोड़ काम कर दिखाया है और पखांजुर इलाका पूरे देश में मछली पालन के नक्शे में अपना नाम व पहचान बना रहा है।पखांजुर में यह सब संभव हुआ है- भूपेश सरकार की योजनाओं की मदद और किसानों की मेहनत से।गौरतलब है कि पखांजुर के 05 हज़ार किसान मछली पालन से जुड़े हुए हैं।पखांजुर से जुड़ी उल्लेखनीय बात यह भी है कि पखांजुर इलाके के 19,700 तालाब हैं,जिनमें से 99 प्रतिशत तालाबों में मछली पालन किया जा रहा है।यह भी बताया जा रहा है कि यहां से महाराष्ट्र,मध्य प्रदेश,पंजाब,हरियाना,आंध्र प्रदेश, ओडिसा व उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में मछली-बीज की सप्लाई की जाती है।अकेले इससे ही 125 करोड़ की आय होती है। आसपास के 05 गांवों के किसानों ने 1700 तालाब बनाकर सामूहिक खेती कर करीब 30 हज़ार मीट्रिक टन मछली का उत्पादन कर रहे हैं।यह सब छत्तीसगढ़ सरकार की मछली पालन की योजनाओं की रफ्तार पकड़ने से संभव हो पाया है।

मारुति सुजुकी ने तय किया,गोबर गैस से दौड़ेगी मारुति बायो गैस कारें,,,,,

हमर छत्तीसगढ़ की योजना से जुड़ी गाय के गोबर से बनी गैस से दौड़ेंगी मारुति बायो गैस कारें। भारत की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी ने यह घोषणा कर दी है।गौरतलब है कि कम्पनी ने कहा है कि बायो गैस का उपयोग मारुति सुजुकी के सीएनजी मॉडल के लिए किया जा सकता है।जो भारत में सीएनजी कारों का 70 प्रतिशत है।अभी तक ,सुजुकी की बायो गैस योजना एक प्रयोग की तरह लगती है।बताते है 10 गायों से प्राप्त गोबर एक दिन में 1 कार के लिए पर्याप्त होगा।गाय गोबर बायो गैस की लागत,इंजन पर प्रभाव सहित कई पहलुओं पर अभी काम किया जाना बाकी है।गोबर बायो गैस के उत्पादन और सप्लाई के लिए एक प्लान भी तैयार कर लिया गया है।इसके लिए कम्पनी ने नेशनल डेयरी कारपोरेशन बोर्ड तथा बनास डेयरी जैसे संगठनों के साथ पार्टनरशिप करार ली है।

अंबिकापुर के शहरी गौठान में गोबर पेंट-यूनिट का नया शुभारंभ,,,,,,

हमर छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में गोधन न्याय योजना के सफल क्रियान्वयन की तसवीर उभरने लगी है।अंबिकापुर नगर निगम के लुटरापारा स्थित शहरी गौठान में गोबर पेंट इकाई का शुभारंभ किया गया है।बताया जा रहा है कि संस्था ग्रीन रूट्स द्वारा गोबर पेंट यूनिट लगाने के लिए 24 लाख रुपए का निवेश किया गया है।इस गोबर पेंट यूनिट में समूह की महिलाओं द्वारा गोबर पेंट का निर्माण किया जाएगा।गौरतलब है कि इस गोबर पेंट यूनिट की उत्पादन क्षमता प्रति शिफ़्ट 500 लीटर है।जिसमें 30 प्रतिशत गोबर का उपयोग पेंट निर्माण के लिए किया जायेगा।

रायगढ़ का मिलेट कैफे प्रधानमंत्री नरेंद मोदी को भा गया,सराहना,,,,,,

हमर छत्तीसगढ़ के रायगढ़ शहर में पूरे छत्तीगढ़ का पहला मिलेट-कैफे अपने अनूठे व्यंजनों के लिए प्रसिद्धि पा रहा है।ऐसी प्रसिद्धि इसलिए और बढ़ गई क्योंकि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने रेडियो कार्यक्रम”मन की बात” में ज़िक्र कर मिलेट को बढ़ावा देने की पहल की भरपूर सराहना की है।प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों से कहा कि जब भी रायगढ़ जाने का मौका मिले तो मिलेट कैफे के अनूठे व्यंजनों का स्वाद ज़रूर लेंकैफे मेंरागी,कोदो,कुटकी जैसे मोटे अनाजों सेबनेपास्ता,चीला,इडली,मंचूरियन,डोसा तथा कोदो-बिरयानी का लुत्फ उठा सकते हैं।मिलेट्स स्वाद और स्वास्थ्य के दोहरा लाभदायक भी है।हमर छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार नेरागी,कोदो,कुटकी जैसे मोटे अनाजो का समर्थन मूल्य निर्धारित करते हुए राजीव गांधी किसान न्याय योजना के दायरे में शामिल कर लिया है।छत्तीसगढ़ के 14 जिलों को इसमें शामिल कर लिया गया है।

बालको को मिला जन -जागरूकता का राष्ट्रीय पुरस्कार,,,

हमर छत्तीसगढ़ की ऊर्जा नगरी कोरबा में वेदांता समूह की भारत एल्युमिनियम कंपनी(बालको)को 44वें पब्लिक रिलेशन्स सोसायटी ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित अखिल भारतीय जनसम्पर्क अधिवेशन भोपाल में सर्वश्रेष्ठ जन-जागरूकता पुरस्कार श्रेणी में प्रथम स्थान हासिल किया है।मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री कैलाश विश्वास सारंग ने बालको को पुरस्कार प्रदान किया,जिसे बालको के संवाद विभाग के सह-प्रबंधक विजय वाजपेयी ने ग्रहण किया।यह पुरस्कार बालको द्वारा संचार माध्यम से समुदाय को संवेदनशील बनाने में उल्लेखनीय योगदान के लिए प्रदान किया गया है।बालको के मुख्य कार्यकारीअधिकारी व निदेशक अभिजीत पति ने पुरस्कार मिलने पर बालको-परिवार को शुभकामनाएं दी है।

देश के मशहूर शायर जां निसार अख़्तर फरमाते हैं,,,

”जब ये नेकी भी हमें जुर्म नज़र आती है,,,

सब के ऐबों को छुपाया है बहोत दिन हमने”,,

 

Related posts

उत्तर बस्तर कांकेर : हर घर तिरंगा अभियान को सफल बनाने तिरंगा विक्रय स्टॉल का कलेक्टर ने किया शुभारंभ

newindianews

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उप मुख्यमंत्री टी.एस. सिंहदेव को पुष्पगुच्छ भेंट किया

newindianews

सांसद छाया वर्मा ने दी प्रतिक्रिया, कहा-बेरोजगारों, गृहणियों और आम आदमी की अपेक्षाओं को निराश करने वाला बजट

newindianews

Leave a Comment