New India News
Otherदेश-विदेश

“हमर छत्तीसगढ़” आसिफ इक़बाल की कलम से…

कोरबा में इंदिरा – राजीव गांधी की प्रतिमाओं को अनावरण का इंतज़ार…

हमर छत्तीसगढ़ की ऊर्जा नगरी कोरबा में बीते 5 साल से पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी की आदमकद प्रतिमाओं को अनावरण का इंतज़ार है। इंदिरा स्टेडियम के सामने इंदिरा जी एवं राजीव गांधी ऑडिटोरियम के सामने राजीव जी की आदमकद प्रतिमाओं को अनावरण की प्रतीक्षा में कपड़े से ढंक कर रखा गया है। गौरतलब है कि कोरबा में बीते 8 साल से कांग्रेस के महापौर जबकि 4 साल से छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार है। न्यूज़ एक्शन वेब पोर्टल के संपादक वरिष्ठ पत्रकार गेंदलाल शुक्ला के अनुसार इतने लंबे समय से कांग्रेस के दौर में इंदिरा जी एवं राजीव जी की प्रतिमाओं का अनावरण नहीं हो पा रहा है। कोरबा मेयर राज किशोर प्रसाद का कहना है कि विधायक एवं राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने श्रीमती सोनिया गांधी एवं सांसद राहुल गांधी को प्रतिमाओं के अनावरण का निमंत्रण स्वयं दिल्ली में दिया है और इन दोनों नेताओं ने अनावरण करना स्वीकार कर आने का आश्वासन दिया है। हम सभी कांग्रेसजनों को कांग्रेस के इन दोनों बड़े नेताओं के आगमन का इंतज़ार है। यहां बता दें कि छत्तीसगढ़ राज्य में एक साल से थोड़ा कम समय चुनाव के लिए शेष है। इसलिए इन दोनों प्रतिमाओं के अनावरण की प्रतीक्षा बेसब्री से की जा रही है।

पुलिस में इंसानियत के दर्शन…

“पुलिस – शास्त्र” बड़ा अजीब है। इस शास्त्र में बड़े उतार-चढ़ाव के साथ अंतरंगता एवं बहिरंगता का समावेश होता है। पुलिस समाज में सुरक्षा का प्रतीक है लेकिन पुलिस या पुलिसिंग के बारे में हजारों मत एवं मन विभिन्नताएं होती है। ‘पुलिस’ शब्द होता है निहायत ही सम्मानजनक लेकिन कइयों के विचार इसके विपरीत इस कदर होते हैं कि लोग कहने से भी नहीं चूकते कि ‘पुलिस…. तू अब तो बदल कि ज़माना बदल गया है’। सच में दोस्तों, पुलिस सच में बदल गई है। अभी कुछ दिनों पहले राजधानी के ट्रैफिक सिपाही ने लाखों रुपयों का बैग थाने के बाद उसके मालिक तक पहुंचा कर पुलिस को गौरवान्वित किया था। अब मैंने जो शीर्षक लिखा है ‘पुलिस में इंसानियत के दर्शन’… क्योंकि पुलिस के जवान ही नहीं अधिकारी भी इंसानियत और मानवता की सुरक्षा में भी जुटे हैं। कहने का आशय है कि राजधानी पुलिस के 163 जवान व अधिकारी एक ‘ग्रुप’ बनाकर बीते 12 वर्षों से ‘ब्लड डोनेशन’ (रक्तदान) में जुटे हैं कि हम सभी इन्हें ‘दिल से सेल्यूट’ करते हैं। सिविल लाइन स्थित पुलिस लाइन के जवान व अधिकारी एक ब्लड ग्रुप बनाकर 12 वर्षों से ब्लड डोनेशन (रक्तदान) के आदर्श मुहिम में सक्रियता से जुटे हैं। इस आदर्श मुहिम से इस पुलिस ग्रुप ने अब तक 32 सौ से अधिक लोगों की जान बचाई है। इसमें ऐसे लोग शामिल हैं जिन्हें सड़क दुर्घटना के बाद अस्पताल में ब्लड की जरुरत पड़ी और ऐसे पुलिस जवान भी हैं जिन्हें नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में घायल होने के बाद ब्लड की सख्त ज़रूरत पड़ी और पुलिस के इस ग्रुप ने इन्हें भी ब्लड देकर पुलिस के घायल जवानों की जाने भी बचाई है। सिविल लाइन स्थित आरक्षित पुलिस लाइन के आर.आई. वैभव मिश्रा ने उक्ताशय की जानकारी देते हुए बताया कि ग्रुप के जवान – अधिकारी हर साल में दो से तीन बार जरूरतमंदों को ब्लड डोनेट करते हैं। इतना ही नहीं बीते 4 साल में अभी तक 15 सौ से ज्यादा को अस्पतालों में जाकर परिजनों की मदद करते हुए मरीजों की जान बचाई। जवानों द्वारा इस योजना को बिलकुल गुप्त तरीके से किया जाता है। राजधानी के एक प्रमुख अखबार ने भी उक्ताशय की खबर को प्रमुखता से दिया है। रक्तदान की यह आदर्श मुहिम वर्ष 2011 से अब तक 2022 में भी सक्रियता से लागू है और समाज में सराहना की जा रही है।

छत्तीसगढ़ की तीजन बाई व ममता चंद्राकर राष्ट्रपति से लेंगी संगीत नाटक अकादमी का पुरस्कार…

हमर छत्तीसगढ़ की मशहूर पंडवानी गायिका तीजन बाई व लोक गायिका ममता चंद्राकर को संगीत नाटक अकादमी अवार्ड से नवाज़ा जाएगा। ममता चंद्राकर वर्तमान में खैरागढ़ स्थित इंदिरा कला एवं संगीत विश्व विद्यालय की कुलपति भी हैं। इन्हें नई दिल्ली में तीजन बाई के साथ राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा देश के अन्य कला साधकों के साथ सम्मानित किया जायेगा। अवार्ड के साथ तीजन बाई एवं ममता चंद्राकर को एक-एक लाख रुपए एवं ताम्र पत्र से पुरस्कृत किया जावेगा। गौरतलब है कि देश भर से मिली प्रविष्टियों में पृथक – पृथक श्रेणी में 128 श्रेष्ठ कलाकारों व संगीत साधकों का चयन किया गया है। ये पुरस्कार वर्ष 2019 – 20 और 2021 के लिए प्रदान किये जाएंगे। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू नई दिल्ली में आयोजित होने वाले एक विशेष समारोह में अन्य कला साधकों के साथ ममता चंद्राकर जैसी विभूतियों का तीजन बाई के साथ सम्मानित करेंगी।

राजधानी पुलिस ने 3 अंतरराज्यीय ठगों को गिरफ्तार किया, जो सोना दिलाने के नाम पर ठगी करते थे…

हमर छत्तीसगढ़ की राजधानी पुलिस ने सोना दिलाने के नाम से कई लोगों को ठगी का शिकार बनाने वाले महिला समेत 3 अंतरराज्यीय ठगों को गिरफ्तार किया है। ये जालसाज सोने के व्यवसाय में धन लगाकर मुनाफा कमाने, कम दाम पर सोना देने तथा काम कैरेट के सोने को 23 कैरेट बताकर लगभग एक करोड़ की ठगी की है। न्यू राजेंद्र नगर थाना पुलिस ने इन ठगों को दबोचने के साथ इनसे 55 हजार की नगदी, सोने के आभूषण जिसकी कीमत 11 लाख 20 हजार रुपए तथा चांदी के ज़ेवरात की कीमत लगभग 90 हजार रुपए जब्त किया है। इन जब्ती की कीमत 12 लाख 65 हजार रुपए आंकी गई है। इस मामले में मास्टर माइंड सहित 2 आरोपी फरार हैं, जिनकी तलाश की जा रही है। पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने घटना को मंजूर किया है। झांसे में लेने के लिए इन्होंने महावीर नगर में ज्वेलरी की दूकान भी खोल रखी थी। गिरफ्तार लोगों में अंजली सोनी, अखिलेश सिंह तथा जयकुमार बताया गया है जो उत्तर प्रदेश के बलिया निवासी है।

सोमनी में बंद पड़ी अवैध गुटखा फैक्ट्री में पुलिस का छापा, 82 लाख का माल जब्त…

राजनांदगांव पुलिस ने नशे के कारोबार को पकड़ा है। सोमनी में अवैध रूप से बंद पड़ी फैक्ट्री में गुटखा बनाने का काम चल रहा था। पुलिस ने सूचना पर छापा मारकर 82 लाख रुपय का गुटखा सामान जब्त किया है। मामला सोमनी थाने में दर्ज किया गया है। बताते हैं ग्राम जोरातराई कोपेडीह मार्ग पर एक फैक्ट्री है जो काफी समय से बंद थी लेकिन यहां गुटखा बनाने का कारोबार चल रहा था। पुलिस को इसकी सूचना मिली और पुलिस ने मौके पर छापा मारकर 82 लाख 21 हजार से ज्यादा का माल जब्त किया है। जब्त सामानों में गुटखा केमिकल, कटिंग सुपारी, बीड़ी पत्ती, तंबाखू, गुटखा मसाला पाउडर, केसर युक्त गुटखा, परफ्यूम तरल पदार्थ, जर्दा कत्था पाउडर, सितार पाउच के प्लास्टिक रोल, सितार पैकिंग सहित 82 लाख से अधिक का माल जब्ती में शामिल है। पुलिस कप्तान अमित पटेल के अनुसार बंद पड़ी फैक्ट्री में अवैध रूप से तम्बाखू जर्दा युक्त सितार व अन्य कंपनी का गुटखा बनाया जा रहा था। मौके पर सुपरवाइजर भंवर लाल चौधरी (राजस्थान) को गिरफ्तार किया गया क्योंकि फैक्ट्री संबंधी कोई कागज़ात पेश नहीं किया गया। इस करवाई के बाद अवैध गुटखा खरीद – बिक्री, भंडारण करने वालों में भी हड़कंप मचा हुआ है।

फीफा वर्ल्ड कप कतर में छत्तीसगढ़ की बेटी अंशु कर रही है रोशन देश का नाम…

देश के मशहूर शायर मिर्ज़ा ग़ालिब ने फरमाया है,,

“मशरूफ़ रहने का अंदाज़ तुम्हें तन्हा ना कर दे ग़ालिब,रिश्ते फुर्सत में नहीं,तव्वजों के मोहताज़ होते हैं'”

 

 

Related posts

खैरागढ़ उपचुनाव के दौरान पीएचई मंत्री श्री गुरु रुद्र कुमार ने दो दिनों में 15 से ज्यादा सभाएं की.. प्रचार करते हुए कांग्रेस प्रत्याशी यशोदा वर्मा के पक्ष में मतदान करने की अपील की.

newindianews

ऐसी लोकलुभावन और अव्यावहारिक योजनाएं अर्थव्यवस्था को श्रीलंका के समान रास्ते पर ले जा सकती हैं., PM मोदी से बोले ब्यूरोक्रेट्स

newindianews

त्वरित रिस्पांस  देने वाले पार्षद बंटी होरा अपने वार्ड देवेन्द्रनगर में हैं लोकप्रिय

newindianews

Leave a Comment