New India News
Other

“हमर छत्तीसगढ़” आसिफ इक़बाल की कलम से… अंक 49

छत्तीसगढ़ को मिला एक और राष्ट्रीय सम्मान “स्कॉच सिल्वर अवार्ड 2022″….

पूरे भारत में सबसे कम बेरोजगारी दर की गणना वाले राज्य का सम्मान अपने नाम करने वाले छत्तीसगढ़ राज्य को राष्ट्रीय स्तर पर एक और सम्मान से सम्मानित किया गया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल हमर छत्तीसगढ़ राज्य में बेहतर महत्वकांक्षी लोकजनोपयोगी योजनाओं को संचालित कर रहे हैं। उन्ही में निःशुल्क कौशल विकास योजना को गुणवत्तायुक्त एवं रोजगार आधारित कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय स्तर के ‘स्कॉच सिल्वर राष्ट्रीय सम्मान’ से सम्मानित किया गया है। युवाओं को बेहतर कौशल विकास प्रशिक्षण मिल सके इसके लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कौशल विकास प्राधिकरण के द्वारा युवाओं को उनकी रूचि के आधार पर गुणवत्तायुक्त प्रशिक्षण प्रदान करा रहे हैं। प्रशिक्षण पाकर युवा लगातार सरकारी विभागों में नौकरी पाने के साथ ही स्वरोजगार अपना रहे हैं। गौरतलब है कि अब तक इस योजना से 4 लाख 68 हजार 184 युवाओं को प्रशिक्षित किया गया है, जिनमें से 2 लाख 55 हजार 678 युवाओं को नियमित किया गया है। वर्तमान में 2726 युवा प्रशिक्षणरत हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं उच्च शिक्षा मंत्री तथा कौशल विकास मंत्री उमेश पटेल ने छत्तीसगढ़ राज्य कौशल विकास प्राधिकरण को शुभकामनाएं एवं बधाइयां दी है।

पड़ौसी राज्य से लोडेड अवैध धान से भरा ट्रक जब्त, बड़ी कार्यवाही….


हमर छत्तीसगढ़ में धान की खरीदी का महोत्सव शुरू हो गया है। इस वर्ष 1 लाख 10 हज़ार मीट्रिक टन धान की खरीदी का लक्ष्य रखा गया है। इसका बेजा फायदा उठाने वाले लोग भी पीछे नहीं हैं, और उन्होंने समर्थन मूल्य पर धान खपाने के लिए दूसरे पड़ौसी राज्यों से कम दाम के धान का परिवहन शुरू कर दिया है। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश की सीमा पर एक ट्रक को पकड़ा गया है और ट्रक में लोडेड अवैध धान को जब्त किया गया है। बताया गया है कि मध्यप्रदेश – छत्तीसगढ़ की सीमा पर राजस्व विभाग की टीम द्वारा अवैध धान का परिवहन करते ट्रक को पकड़ा गया है। ट्रक चालक के पास धान – परिवहन संबंधी कोई दस्तावेज नहीं मिला। मालूम रहे, हमर छत्तीसगढ़ की सरकार ने धान के लिए 2500 रुपए समर्थन मूल्य पर खरीदी का निर्णय लिया है जिसके चलते यहां अन्य राज्यों के धान को खपाने के लिए दलाल छत्तीसगढ़ में सक्रीय हो जाते हैं लेकिन भूपेश बघेल सरकार ने इसके लिए सख्त निर्देश भी जारी कर रखा है। यह ट्रक नागपुर से ओडिशा की ओर जा रहा था।

किंग कोबरा ने बच्चे को डसा, तो बच्चे ने किंग कोबरा को दांत से दबाया, कोबरा मृत…

हमर छत्तीसगढ़ के अंतिम छोर पर बसे जशपुर जिले के फरसाबहार तहसील से लगे इलाके को नागलोक के रूप में जाना जाता है। गौरतलब यह घटना अद्भूत व अविस्मरणीय है जिसमें एक बच्चे को विषधर माने जाने वाले किंग कोबरा ने डस लिया था। इससे गुस्से में आकर बच्चे ने भी किंग कोबरा को दांतों से दबा लिया और यह चकित कर देने वाली घटना है कि बच्चे के दांत से चबाने के बाद किंग कोबरा की मौत हो गई। बताते हैं, इस प्रचलित नागलोक में यह अन्धविश्वास है कि विषधर किसी को डस लेता है और वह इसके उलट सर्प को काट ले तो विषधर के जहर का असर या प्रभाव नहीं होगा। पता नहीं, इस अन्धविश्वास में कितनी सच्चाई है लेकिन सर्पदंश से भयभीत पालकों ने उस बच्चे को अस्पताल में भरती कराया, जहां वह बच्चा अब पूरी तरह से स्वस्थ है। यह नागलोक का इलाका पड़ौसी राज्य ओड़िसा से जोड़ने वाली स्टेट हाईवे के किनारे लगे तपकरा और उसके आसपास के इलाकों में किंग कोबरा और करैत जैसे विषधर सर्प बहुतायत में पाए जाते हैं।

छत्तीसगढ़ की बेटी आकांक्षा सोनी बनीं साउथ एशियन गेम्स में रेफरी….

हमर छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर की बेटी आकांक्षा सोनी साउथ एशियन गेम्स में फुटबॉल की रेफरी बनीं है। देश के साथ – साथ हमर छत्तीसगढ़ में खेलों को बढ़ावा और खिलाड़ियों के बेहतर ढंग से आगे बढ़ने का सटीक उदाहरण है आकांक्षा सोनी का रेफरी में चयन। अब खेलों को बढ़ावा मिलने के साथ -साथ पुरुषों की तरह महिलाओं में भी खेलों के प्रति जागरूकता बढ़ी है। फुटबॉल, हॉकी, कबड्डी व क्रिकेट में पुरुषों की तरह महिलाएं भी इन खेलों में आगे चमकने लगी हैं और देश व अपने राज्य का नाम रौशन करने लगी हैं। बाल्यकाल से ही आकांक्षा की अभिरुचि फुटबॉल खेलने की तरफ रही और उनके पालकों ने भी उसे हर तरह से सपोर्ट किया। इसी वजह से आकांक्षा ने फुटबॉल के राष्ट्रीय स्तर के कई टूर्नामेंट खेले हैं। यद्यपि आकांक्षा के भाई – बहन उसे पढ़ाई की ओर ध्यान देने की बात कहते थे। लेकिन उसके मम्मी – पापा से हमेशा सपोर्ट व हौसला मिला। अब आकांक्षा सोनी का चयन साउथ एशियन गेम्स (अंडर 15 गर्ल्स फुटबॉल चैंपियनशिप) में रेफरी के लिए किया गया है।

आकर्षी ने इंटरनेशनल चैलेंज बैडमिंटन का खिताब जीता…

हमर छत्तीसगढ़ की बैडमिंटन खिलाड़ी आकर्षी कश्यप ने ‘ली निंग मालदीप इंटरनेशनल चैलेंज बैडमिंटन टूर्नामेंट’ में इरा को दो रोमांचक सेटों में पराजित कर ख़िताब पर कब्ज़ा किया है। आकर्षी टूर्नामेंट में प्रथम वरीयता प्राप्त खिलाड़ी है। आकर्षी ने फाइनल से पहले मिहो कयामा को भी तीन सेट में चले रोमांचक मैच में पराजित किया। जापान की इस खिलाड़ी ने अच्छे खेल व संघर्ष का परिचय दिया। गौरतलब है कि आकर्षी कश्यप की वर्ल्ड रैंक 48 है। आकर्षि ने नेशनल चैंपियन होने और टूर्नामेंट जीतने के बाद कहा कि ‘उसका मनोबल अभी संतुलित और बहुत अच्छा है’। अगला टूर्नामेंट जर्मनी में 1 से 9 नवंबर 2022 के बीच हायलो ओपन होने वाला है और उसमें भी आकर्षी अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद जता रही है

पत्रकारिता में जीवंत संस्कृति – संस्कार के रचियता प्रख्यात पत्रकार रमेश नैयर पंचतत्व में विलीन…


छत्तीसगढ़ के पत्रकारिता के आधारस्तंभ, सशक्त हस्ताक्षर एवं पत्रकारिता को नया आयाम देने के अधिष्ठाता व पितामह रमेश नैयर जी का 82 वर्ष की आयु में स्वर्गवास हो गया। असंख्य अपने चहेतों – प्रशंसकों ने अपना सच्चा अभिभावक खो दिया है। रमेश नैयर ने देश के अनगिनत चुनिंदा अख़बारों में संपादन के दायित्व का निर्वहन किया। रमेश नैयर जी ने दैनिक भास्कर का लंबे समय तक संपादन किया और ख़ास बात यह रही कि राजधानी रायपुर से जब से दैनिक भास्कर का प्रकाशन शुरू हुआ तब से रमेश नैयर जी दैनिक भास्कर से संबद्ध रहे। आपने चंडीगढ़ के नामी अखबार दैनिक ट्रिब्यून का भी संपादन किया और देश प्रसिद्ध रहे। रमेश जी का जन्म 10 फ़रवरी 1940 को कुंजाह (अब पाकिस्तान) में हुआ था। आप ने पत्रकारिता में आने से पूर्व शासकीय दायित्व भी सम्हाला था। आपने पत्रकारिता की शुरुआत 1965 से प्रारंभ की और अख़बारों से लेकर आकाशवाणी व दूरदर्शन की दुनिया से भी संबद्ध रहे। आप रायपुर प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष भी रहे। रमेश जी नैयर का हिन्दी, अंग्रेजी, पंजाबी और उर्दू में महारत रही और ओजस्वी व प्रखर वक्ता भी माने – जाने रहे। आपने 4 पुस्तकों का संपादन किया और अनुवाद भी किया। हमर छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनसुइया उइके, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत तथा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रमेश नैयर जी के निधन पर अपनी शोकांजलि व्यक्त करते हुए कहा कि रमेश नैयर ने पत्रकारिता के उच्च व आदर्श प्रतिमानों को स्थापित किया । उनके निधन से पत्रकारिता में एक ऐसा शून्य पैदा हो गया है, जिसे भरा नहीं जा सकता। रायपुर प्रेस क्लब के अध्यक्ष दामू आंबेडारे, दैनिक भारत भास्कर के प्रधान संपादक संदीप तिवारी ‘राज’, वेब पोर्टल न्यूज़ टी 20 के प्रधान संपादक बी.डी.निज़ामी तथा वेब पोर्टल न्यूज़ एक्शन के प्रधान संपादक गेंदलाल शुक्ला, ऊबेराकाक्षी के प्रधान संपादक त्यागरज नायकर एवं न्यूज़ इंडिया न्यूज़ पोर्टल के प्रधान संपादक आदिल अहमद ने रमेश नैयर जी के प्रति असीम संवेदनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ की पत्रकारिता में रमेश जी नैयर की कमी खलती रहेगी। ईश्वर पुण्यात्मा को स्वर्ग में स्थान देवें और अखबार जगत को असहनीय दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करे (आमीन)।

देश के मशहूर शायर निदा फ़ाज़ली ने फरमाया है,,

“मुमकिन है सफ़र हो आसाँ सब साथ चलकर देखें–
कुछ तुम भी बदल कर देखो कुछ हम भी बदल कर देखें”,,,

Related posts

अधिवेशन के लिये गठित परिवहन समिति की बैठक

newindianews

अमित जोगी ने पाटन से भरा नामांकन, कहा- ये चुनाव ‘भूपेश’ नही ‘भ्रष्टाचार’ के विरुद्ध है

newindianews

लोकसभा के तीसरे चरण में व्यापारिक प्रतिष्ठान दोपहर 1 बजे तक बंद

newindianews

Leave a Comment