New India News
नवा छत्तीसगढ़राजनीतिहेल्थ

सूरजपुर : मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना से दूरस्थ क्षेत्र के ग्रामीण हो रहे लाभान्वित

अब तक 2,79,394 लोगों का किया गया जांच एवं उपचार

रक्तचाप, मधुमेह, सिकलसेल, एनीमिया, हीमोग्लोबिन, मलेरिया, टाईफाइड , खून की जांच कर एवं मरीजों को निःशुल्क दी जा रही दवाईयां

225 गंभीर मरीजों को किया गया जिला अस्पताल रेफर

Newindianews/Raipur मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की महात्वाकांक्षी योजना मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना का जिले संचालन किया जा रहा है। कलेक्टर  सुश्री इफ्फत आरा के निर्देशन और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. आर. एस. सिंह के मार्गदर्शन में मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना में अधिक से अधिक मरीजों को स्वास्थ्य लाभ प्रदान किया जा रहा है।

जिले के दूरस्थ क्षेत्र के बाजारों में आवश्यकता है और जरूरत बढ़ रही है। जिसके तहत इस योजना अन्तर्गत जिले में अब तक कुल 279394 (दो लाख उनासी हजार तीन सौ चौरानवे) लोगों का जांच  एवं उपचार किया गया है। इस योजना की शुरुवात में जहां प्रति हाट बाजार 15 से 20 मरीजो का लाभ मिल रहा था वहीं इसके प्रचार- प्रसार व हाट बाजार क्लीनिक के निरंतर संचालन से अब यह 50 से 60 मरीजों तक पहुच चूका है। जिले में इसकी आवश्यकता एवं जरूरत के कारण  जिन हाट बाजार में संचालन नहीं हो रहा था वहां से भी क्लीनिक के संचालन की मांग की गई। आम लोगों की मांग पर वहां भी हाट बाजार क्लीनिक योजना संचालित किया जा रहा है। सूरजपुर, प्रतापपुर, भैयाथान, रामानुजनगर, ओढ़गी और प्रेमनगर विकासखंड में सप्ताहिक बाजार लगते हैं हाट बाजार क्लीनिक योजना का संचालन किया जा रहा है।
1 अप्रैल 2022 से 31 अगस्त 2022 तक कुल उपचारित मरीजों की संख्या 113184 है दवाई प्राप्त करने वाले तथा विभिन्न टेस्ट कराने वालों की संख्या 105680 है। सीएमएचओ डॉ. आर एस सिंह ने बताया कि कुल चिन्हांकित हाट बाजारों की संख्या 105, कुल वाहनों की संख्या 18, माह में कुल 400 बाजार लगता है तथा विभिन्न बाजारों में  2196एमएमयू गये। उन्होंने बताया कि प्रति हाट बाजार में उपचारित मरीजों की औसत संख्या 52 तथा जिला अस्पताल में रेफर किये गये मरीजों की संख्या 225 है।
गौरतलब है कि ग्रामीण क्षेत्रों के अस्पतालों में चिकित्सकों की कमी के कारण बीमार लोगो को ईलाज के लिये कई बार आधारभूत स्वास्थ्य सेवायें भी समय पर नहीं मिल पाने के कारण बीमारी का पता नहीं चल पाता है तथा जटिलता की स्थिति में उच्च अस्पतालों को रिफर करना पड़ता है। ग्रामीण तथा शहरी स्लम क्षेत्रों में पैथोलॉजी प्रयोगशाला नहीं होने के कारण मरीजों को जांच के लिए भी शहरी क्षेत्रों तक आना पड़ता है। प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा आदिवासी अंचलों में ग्रामीणों के बीच हाट बाजार के महत्व को देखते हुये मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना की शुरुआत किया गया। इस योजना के अन्तर्गत प्रतिदिन हाट बाजार क्लीनिक में जांच और ईलाज की सुविधा से ऐसे मरीजों को त्वरीज रूप से आधारभूत स्वास्थ्य सेवायें मिल रही है। सूरजपुर जिले के भी हाट बाजारों में भी इस योजना अन्तर्गत स्वास्थ्य विभाग द्वारा शिविर लगाकर संक्रामक एवं गैर संक्रामक रोगों का निःशुल्क ईलाज किया जा रहा है। हाट बाजार क्लीनिक में ही रक्तचाप, मधुमेह, सिकलसेल एनीमिया, हीमोग्लोबिन, मलेरिया, टाईफाइड जैसी बीमारीयों के लिये खून की जांच निःशुल्क की जा रही है एवं मरीजों को निःशुल्क दवाईयां दी जा रही है, साथ ही आवश्यक चिकित्सा परामर्श दिया जा रहा है। लोगो की बीमारी  का त्वरित ईलाज हो रहा है।

Related posts

सदस्यता अभियान को लेकर कांग्रेस की ब्लॉक स्तरीय बैठक

newindianews

60 से 70 प्रतिषत किसान सूखे की वजह से धान की रोपाई नहीं कर सके, सरकार को चाहिए की सरगुजा को सूखा ग्रस्त घोषित करे..पूर्व विधायक अमित जोगी

newindianews

कांग्रेस ने जारी की भिलाई-चरौदा निगम में अपने प्रत्याशियों की सूची.. 40 वार्डो में कांग्रेस ने इन प्रत्याशियों पर किसमत अजमाया

newindianews

Leave a Comment