प्रधानमंत्री मोदी एक साल में लाल किले पर दो बार तिरंगा फहराने वाले पहले पी. एम. बने |
Publish News : 21 Oct 2018



एक बार फिर मोदी ने गाँधी परिवार पर जमकर निशाना साधा |
आजाद हिन्द फ़ौज की 75 वी वर्षगांठ बड़े धूमधाम से मनाई गई |

पीएम मोदी ने कार्यक्रम की शुरुआत देशवासियों को आजाद हिंद फ़ौज के 75 वर्ष पूरे होने पर बधाई देते हुए कि मोदी ने कहा कि आजाद हिन्द फ़ौज सिर्फ नाम नहीं था वो अपने आप में एक सरकार थी जिसने हर क्षेत्र में नई योजना बनाई थी। इस सरकार का अपना बैंक था, अपनी मुद्रा थी, अपना डाक टिकट था, गुप्तचर सेवा थी। मोदी ने गाँधी परिवार पर निशाना साधते हुए कहा कि देश में सिर्फ एक परिवार को बड़ा बनाने के लिए देश के अनेक देशभक्त सपूतों को चाहे वह सरदार पटेल हो, बाबा साहब अंबेडकर हों, या फिर नेताजी के योगदान को भुलाने की कोशिश हुई। आप को बता दे कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने 21 अक्टूबर 1943 को सिंगापुर के कैथी सिनेमा हॉल से आजाद हिंद फ़ौज की नीव राखी थी वाही से नेताजी ने स्वतंत्र भारत की अंतरिम सरकार के प्रधानमंत्री, युद्ध और विदेशी मामलों के मंत्री और सेना के सर्वोच्च सेनापति चुने गए थे | वित्त विभाग एस.सी चटर्जी को, प्रचार विभाग एस.ए. अय्यर को तथा महिला संगठन लक्ष्मी स्वामीनाथन को सौंपा गया था |

Related News